सजावटी पौधे


आज के इस भाग दौड़ भरी जींदगी में लोगों के पास टाईम की बहुत कमी है कि वह प्रकृति से जुड़ सके इसके अलावा भी शहरों में जगह की कमी एक बहूत बड़ी समस्या है। फिर भी हमारे पास ऐसे पौधों की कमी नहीं है जो ,हमें प्रकृति का अहशास दिला ना सके ? आज गार्डनिंग में बहुत सारे नई टैक्नोलोजी तथा नये-नये सिस्टम आ गये है जो छोटे जगह को खुबसुरती से पेश कर सकता है।
आज हम घर में ही बिनी-मिट्टी पानी के हरीयाली ला सकते है। सूनने में अजीब लगता है लेकिन आज यह टैक्नोलॅाजी से संभव है जिसे “क्लासिक मिनरल” कहते है। क्लासिक मिनरल में फास्फोरस, पोटेशियम, नाइट्रोजन, कैल्शियम, सल्फ़र ,कापर, जिंक तथा बोरान आदि तत्व मौजूद होते हैं जो तरल रूप में पौधो को संपुर्ण आहार प्रदान करते है।

इसके आलावा हम हाइड्रोकल्चर, बोनसाईं , कंटेनर गार्डनिंग ,ऑर्किड आदि से भी हम छोटे जगह में हम बहुत अच्छी तरह से गार्डनिंग कर सकते है।
इसके अलावा भी आप इन्डोर प्लांट की मदद से जहां हल्की रोशनी  भी पहुंचती है। पौधें को कलात्मक रूप प्रदान कर सकतें है ,धीरे- धीरे आपको सारे पौधे की डिटेलस उपलब्ध कर दिया जायेगा की आप इस को किस प्रकार से कठिन परिस्थितियों में भी उगा सकें।
सजावटी पौधें में क्रोटन ,पाम ,और बहुत सारी लताऐं भी जैसे मनीप्लांट जिनसे हम बेहतरीन ढंग से उपयोग कर अपने गार्डन को आकर्षक डिजाइन दे सकतें है।

Comments